MuzaffarNagar News : हिस्ट्रीशीटर साथियों संग बना रहा हथियार, चार गिरफ्तार

WhatsApp Group Join Now

हिस्ट्रीशीटर साथियों संग बना रहा हथियार, चार गिरफ्तार

हिस्ट्रीशीटर साथियों संग बना रहा हथियार, चार गिरफ्तार
हिस्ट्रीशीटर साथियों संग बना रहा हथियार, चार गिरफ्तार

हथियार बनाने की फैक्ट्री से 54 तमंचे और हथियार बनाने के उपकरण बरामद

News24yard 

अमित कुमार, मुजफ्फरनगर बुढ़ाना थाना पुलिस ने हिस्ट्रीशीटर को साथियों संग हथियार बनाते गिरफ्तार किया है। उनके कब्जे से 54 बने, कुछ अधबने तमंचे और हथियार बनाने के उपकरण बरामद हुए हैं। पुलिस ने गिरफ्तार आरोपियों को जेल भेज दिया है। पुलिस अधिकारियों ने लोकसभा चुनाव को शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न कराने की बात कही है।

विज्ञापन
Slide
Slide
Slide
Slide
previous arrow
next arrow
हिस्ट्रीशीटर साथियों संग बना रहा हथियार, चार गिरफ्तार
हिस्ट्रीशीटर साथियों संग बना रहा हथियार, चार गिरफ्तार

क्षेत्राधिकारी बुढाना गजेंद्रपाल सिंह ने बताया कि देर रात चेकिंग के दौरान मुखबिर ने बुढाना थाना प्रभारी निरीक्षक आनंद देव मिश्र को नदी मंदिर के पीछे से शुगर मील की ओर जाने वाले रास्ते पर बंद मकान में हथियार बनाने की फैक्ट्री संचालित होने की सूचना दी। सूचना पर पुलिस टीम ने मकान की घेराबंदी कर छापा मारा। मकान से हथियार बनाते चार युवकों को गिरफ्तार किया गया। पूछताछ में उन्होंने अपने नाम जाबिर पुत्र मुस्ताक निवासी ग्रांम जौला बुढाना, सुभाष पुत्र कालूराम निवासी ग्राम शाहपुर बटावली बहसूमा मेरठ, महबूब पुत्र फजरा निवासी ग्राम जौला बुढाना और शौकत पुत्र मुस्ताक निवासी ग्राम निरपुडा दोघट जिला बागपत बताए। पुलिस क्षेत्राधिकारी ने बताया कि जाबिर हिस्ट्रीशीटर है। उसके खिलाफ कई आपराधिक मामले दर्ज हैं।

यह हुआ बरामद

यह हुआ बरामद
यह हुआ बरामद

पुलिस टीम ने फैक्ट्री से 26 तमंचे 315 बोर, 18 तमंचे 12 बोर, दो तमंचे 32 बोर, तीन पौना 315 बोर, चार पौना 12 बोर, एक बंदूक देशी 12 बोर बने हुए बरामद हुए। वहीं फैक्ट्री से 51 तमंचे अधबने 12 बोर, 30 तमंचे अधबने 315 बोर, 22 पौना अधबने 12 बोर, तीन पौना अधबने 315 बोर, 40 नाल लोहा (छोटी व बडी नाल) बरामद हुई।

मांग पर बना रहे हथियार

पुलिस पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि चुनाव में हथियारों की मांग बढ़ जाती है। मांग बढ़ने पर हथियार बलनाने की फैक्ट्री तैयार की थी। किसी को शक न हो इस लिए बंद मकान में फैक्ट्री का काम शुरू किया गया था। सस्ते दातों पर हथियार बेचकर आर्थिक लाभ अर्जित करते थे।

WhatsApp Group Join Now